आपने बहोत बार 3D टेक्नोलॉजी के बारे मै तो सुना ही होगा तो आज जान लेते है की आखिर यह काम कैसे करते है कैसे 3D वीडियो बनती है 3D का मतलब होता है 3 डाइमेंशन यानि उसके जरिये आप यह पता कर सकते है की चीज़े कितनी घेरि है कितनी उची है सामान्य शब्दो मै कहे तो 3D टेक्नोलॉजी से आप वीडियोस को अच्छे से महसूस कर सकते है !

आप बात करते है की 3D वीडियो बनती कैसे है अगर आप मोबाईल से 3D वीडियो बनाना चाहते है तो भूल जाइये क्योंकि मोबाइल आपको सिर्फ 2D वीडियो बनाकर दे सकता है क्योंकि मोबाईल मै सिर्फ एक कैमरा होता है लेकिन 3D वीडियो बनाने के लिए आपको दो या उससे अधिक कैमरे यूज़ करने पड़ते है हालांकि मार्किट मै ऐसे बहोत से फ़ोन आये जो ड्यूल कैमरा से 3D को सपोर्ट करते है मगर वो इतने नहीं चले !

अब बात आती है की आपको कैसे 3D पिक्चर को एन्जॉय कर सकते है उसके लिए दोस्तों अलग तरह के ग्लासेज यानि चस्मा आते है जिससे की आप अपने 3D T.V. को देख सकते है अगर आप बिना ग्लासेज के देखते हो तो आप इतना एन्जॉय नहीं कर पाते उसमे आप 3D थोड़ा ही महसूस कर पाते है लेकिन ग्लासेस की मदद से आप 3D को फूल एन्जॉय कर पाते है !

हालांकि थिएटर मै बिना ग्लासेस के आप देख सकते हो वो कैसे क्योंकि थिएटर मै स्क्रीन के आगे पीछे स्क्रीन लगी होती है जिससे आप 3D को बिना ग्लासेस के महसूस कर सकते है !
मोबाईल मै यह कैसे काम करता है देखिए अगर आप मोबाइल मै ग्लास लगाके 3D देखोगे तो उसमे इतना मज़ा नहीं आएगा इसलिए मोबाइल की स्क्रीन के ऊपर एक लेयर लगी हुई होती है जिससे की आप बिना ग्लास के मोबाइल मै 3D को देख सकते है मगर यह आईडिया इतना पॉपुलर नहीं हुआ !

अब बात करें 2D को 3D मै कन्वर्ट करने की तो ऐसा मुमकिन है ऐसे बहोत से सॉफ्टवेयर है लेकिन वो वीडियो इतनी खास नहीं होती क्योंकि जो वीडियो 3D मै शूट नहीं की गयी तो उसमे 3D का एक्सपीरियंस नहीं मिल पाता !

फिलहाल 3D के बारे मै इतना ही मिलते है अगले आर्टिक्ल मै और हा मैंने एक और आर्टिक्ल मै 4DX सिनेमा के बारे मै बताया है अगर आपने वो आर्टिक्ल नहीं पढ़ा तो उसे भी जरूर से पढ़े !