हलो दोस्तों कैसे हो आज के आर्टिक्ल मै हम बात करेंगे की आखिर इंटरनेट जो है चलता कैसे है और इसका मालिक कौन है तो हम इसी के बारे मै आज बात करेंगे !

आज की इस दुनिया मै लोग खाने के बिना रहे सकते है पानी के बिना रहे सकते है मगर 30 मिनट भी बिना इंटरनेट के नहीं रहे सकते पर कभी आपने सोचा है की आखिर इंटरनेट चलता कैसे है इसका मालिक कौन है आप सोचते होगे की यह satellite से चलता है आप सोचते है की दुनिया मै नेटवर्क फैला कर रखा है यह उससे चलता है अगर आप भी यह सोचते है तो कुछ हद तक आप गलत है क्योंकि यह चलता है केबल से आप सोच रहे होगे की मेरे मोबाईल मै तो कोई भी केबल नहीं है दोस्तों आपके आस पास जो टावर है उनमे यह केबल बिछी हुई है मै आसान तरीके से आपको बताता हु !

दोस्तों अगर आप यह सोचते हो की इंटरनेट बनाने मै किसी का पैसा लगता है तो आप गलत है क्योंकि एक कंपनी है TR 1 कंपनी यह कंपनी समुन्दरो के अंदर केबल बिछाकर रखी है जिनके थुरु आपका इंटरनेट कनेक्ट होता है साधारण example से समझे तो "सोचलीजिये की आपने एक कंप्यूटर अपने घर पर रखा है और एक कंप्यूटर अपने ऑफिस मै अब आपको क्या करना है अपने घर से लेकर अपने ऑफिस तक एक केबल बिछाना है आपका खर्चा सिर्फ केबल का होगा इसी तरह TR 1 कम्पनी का काम है उसका खर्चा केवल केबल लगाने का है !

दोस्तों यह केबल समुन्दर के जरिये पूरी दुनिया मै फैली हुई है इन केबल मै आपके बाल के साइज़ के तार होते है जिनमे 100Gbps की स्पीड होती है मै एक वेबसाइट का लिंक दे रहा हु इससे आप भी देख सकते है इन केबल को जिसका लिंक - https://linksad.net/FMtYuK
ऊपर वाली वेबसाइट पर जाके आप भी देख सकते हो उनके केबल्स को !
तो फाइनल बात यह है की इंटरनेट वालों का कोई भी पैसा नहीं लगता उनका पैसा सिर्फ और सिर्फ केबल को फैलाने मै लगता है इंडिया मै सबसे ज्यादा नेटवर्क मुंबई मै मिलता है क्योंकि केबल्स का मेन बेस यही पर है जैसे जिओ कंपनी ने अपनी खुद की केबल्स बिछाई हुई है ऐसी ही अलग अलग देश मिलकर केबल्स फैलाई हुई है इनका जीवन काल भी 20 से 25 वर्षो का होता है क्योंकि कुछ ख़राब हो जाती है और कुछ को शार्क जैसे जानवर ख़तम कर देते है !

तो अभी के लिए इतना ही मिलते है अगले आर्टिक्ल मै !