ताज होटल के बारे मै तो आप सभी जानते ही होंगे यह भारत के साथ साथ दुनिया भर मै प्रशिद्ध है और इसमें एक रात गुजारने का सपना लगभग हर वयक्ति रखता है और यह होटल TATA ग्रुप TAJ HOTEL PALACES RESORTS का ही एक हिस्सा है जिसकी शुरुआत जमशेद जी टाटा ने की थी और इसकी कुल 99 ब्रांचेस है जिसमे 83 तो कुल भारत मै ही है और बाकि के मालदीव्स, यूनाइटेड स्टेट , मलेशिया, साउथ अफरीका और U.K मै है !

और इसको बनाने की पीछे एक रोचक कहानी है कहा जाता है की एक बारे जमशेद जी टाटा मुंबई के एक नामी होटल WATSON'S HOTEL मै ठहरने के इरादे से गए थे लेकिन उन्हें अंदर नहीं जाने दिया और बाहर बोर्ड पर लिखा था कुत्ते और इंडियंस का आना मना है और फिर बदले के इरादे से जमशेद जी ने यह होटल बनाया था लेकिन इन सभी कहानियों को गलत बताते हुए कहा जाता है की जमशेद जी ने अपने दोस्त की सलाह पर यह होटल बनाया था !

और 16 दिसंबर 1903 को इस होटल की शुरुआत की गयी और यह दुनिया के और विदेशी सभी होटल को पीछे छोड़ते हुए बहोत पॉपुलर हो गया था और इसके अलावा यह पहला एक ऐसा होटल था जिसमे इलेक्ट्रिसिटी ,अमेरिकी पंखे, तुर्किश बाथरूम और भी बहोत सी चीज़े मोज्जुद थी !

और लोग इसे ग्रैंड होटल भी कहने लगे और आगे चलके इसमें पहला लाइसेंस्ड बार और पहला डिस्को भी इसी होटल मै खोला गया था !

और उस समय इसका किराया था 13 रुपया और इस होटल मै बड़े बड़े राज़ा महाराजा भी ठहर चुके है और वर्ल्ड वर के समय इस होटल मै जख़्मी लोगो का इलाज भी किया गया था !

इसके अलावा 2008 मै इसके ऊपर आतंकी हमले भी हुए थे और हमले के बाद ओबामा ने ताज होटल को भारतियों की ताकत का प्रतीक बताया !

उम्मीद है ताज होटल की यह रोचक कहानी आपको अवश्य पसंद आयी होगी मिलते है अगले आर्टिक्ल मै !